Yo Diary

झारखंड विधानसभा में हंगामे के बीच बिना बहस के सालाना बजट पास

रांची, जेएनएन झारखंड विधानसभा के बजट सत्र में आज सदन की कार्यवाही शुरू होते ही विपक्ष ने जमकर हंगामा और नारेबाजी की। इसके चलते सरयू राय सदन से निकल गए। इसके बाद झामुमो के सदस्य वेल में आ गए। हंगामे के चलते सदन सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी गई। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने बजट पास करने का प्रस्ताव रखा। वहीं, विपक्ष ने कटौती का प्रस्ताव रख दिया। दूसरी पाली में भी विपक्ष ने जमकर हंगामा और नारेबाजी की। हंगामे के बीच मुख्यमंत्री रघुवर दास ने बजट पर जवाब दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि विपक्ष सरकार की उपलब्धियों को पचा नहीं पा रहा है। विपक्ष गरीबों के विकास में बाधक बन रहा है। सरकार दलालों व विचौलियों को राज्य से भागना चाहती है। विपक्ष इसमें भी बाधक बन रहा है। आरोप लगाने और भागने की विपक्ष की नीति नहीं चलेगी।

इस बीच, विपक्ष ने मुख्यमंत्री के जवाब के बीच सदन का बहिष्कार किया। बिना चर्चा के बजट पास कराया गया। इस दौरान विपक्ष नदारद रहा। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि तीन साल में उनकी सरकार ने ऐसी रेखाएं खींची हैं, जिन पर विपक्ष परदा नहीं डाल सकता। इसके बाद बिना बहस के मात्र 25 मिनट में झारखंड का सालाना बजट पास हो गया। 2018-19 का सालाना बजट 80, 200 करोड़ रुपये का है। इस सत्र में 1058 प्रश्न स्वीकृत किए गए, जिनमें मात्र दो प्रश्नों का जवाब जैसे-तैसे हुआ।

इससे पहले सुबह विधानसभा के बाहर भी विपक्ष के विधायकों ने जमकर प्रदर्शन किया। झाविमो विधायक प्रदीप यादव, इरफान अंसारी व विधायक साधु चरण महतो सदन के गेट पर धरने पर बैठ गए। प्रदीप यादव विधानसभा बजट सत्र में शिरकत करने साइकिल से पहुंचे। गौरतलब है कि सोमवार को भी विपक्ष के हंगामे के चलते सदन की कार्यवाही बार-बार स्थगित करनी पड़ी थी।

पिछली बार भी पहले ही खत्म हो गया था सत्र

विधानसभा का पिछला बजट सत्र भी तय समय से चार कार्य दिवस पूर्व ही खत्म हो गया था। विपक्ष के लगातार हंगामे के कारण विधानसभा अध्यक्ष ने कार्यवाही अनिश्चित काल के लिए स्थगित करने की घोषणा की थी।

पिछली बार भी पहले ही खत्म हो गया था सत्र