Yo Diary

एमएस धौनी को पद्मभूषण िदगंबर हांसदा को पद्मश्री

जमशेदपुरकेंद्र सरकार ने गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर पद्म पुरस्कारों का एलान किया है. जारी सूची के मुताबिक, तीन लोगों को पद्म विभूषण, नौ लोगों को पद्म भूषण और 73 को पद्म श्री पुरस्कार से अलंकृत किया गया है. भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी तथा प्रसिद्ध लोक गायिका शारदा सिन्हा को देश के तीसरा सबसे बड़ा नागरिक सम्मान पद्म भूषण पुरस्कार देने की घोषणा की गयी है. पद्मश्री पुरस्कारों की सूची में जमशेदपुर से दिगंबर हांसदा (साहित्य एवं शिक्षा), बिहार से मानस बिहारी वर्मा (विज्ञान एवं तकनीक) तथा पश्चिम बंगाल से कृष्ण बिहारी मिश्र (साहित्य एवं शिक्षा) का भी नाम है.

जिन तीन लोगों को पद्म विभूषण पुरस्कार प्रदान किया गया है, उनमें इलैयाराजा (कला-संगीत, तमिलनाडु), गुलाम मुस्तफा खान (कला-संगीत, महाराष्ट्र) तथा परमेश्वर (साहित्य एवं शिक्षा, केरल) शामिल हैं. स्नूकर खिलाड़ी पंकज आडवाणी को भी पद्म भूषण मिला है. रांची निवासी क्रिकेटर करीब डेढ़ दशक से भारतीय टीम को सेवा दे रहे हैं. इसके पहले उन्हें पद्मश्री, राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार मिल चुके हैं. पिछले साल से मोदी सरकार पद्म पुरस्कारों से उन लोगों को सम्मानित कर रही है,

जो प्रसिद्धि से दूर अपने-अपने क्षेत्रों में सक्रिय हैं या वंचित क्षेत्र की पृष्ठभूमि से आ कर गरीबों के लिए काम किया. दरभंगा के बाउर गांव रहनेवाले मानस बिहारी वर्मा ने सुपर सोनिक विमान तेजस के मैकेनिकल सिस्टम को तैयार करने में अहम भूमिका अदा की थी. सूची में लक्ष्मीकुट्टी (हर्बल औषधि), अरविंद गुप्ता (डॉक्यूमेंट्री), श्याम (गोंड कला), सुभाषिणी मिस्त्री (सामाजिक सेवा), राजगोपालन वासुदेवन (प्लास्टिक रोड मेकर), सुलगत्ती नरसम्मा (प्रसव सहायिका) जैसे कई गुमनाम लोग हैं, जो अपने-अपने इलाकों में बदलाव में जुटे हैं. लातेहार अभियान के लिए दो कमांडो को शौर्य चक्र

नयी दिल्ली. सीआरपीएफ के दो कोबरा कमांडो असिस्टेंट कमांडेंट विकास जाखड़ और उप-निरीक्षक रियाज आलम अंसारी को वर्ष 2016 में झारखंड के लातेहर में नक्सल विरोधी अभियान चलाने के लिए शौर्य चक्र प्रदान किया जायेगा. लक्ष्मीकुट्टी : 500 हर्बल औषधि तैयार की केरल के एक जंगल में आदिवासी बस्ती में पत्तों से बनी छत वाली एक छोटी सी झोपड़ी में रहनेवाली आदिवासी महिला लक्ष्मीकुट्टी को पद्मश्री मिला है, जिन्होंने स्मरण से 500 हर्बल औषधि तैयार की और खासतौर पर सर्पदंश एवं कीटों के डंक के मामलों में हजारों लोगों की मदद की. वह केरल फोल्कलोर एकेडमी में पढ़ाती हैं. सुधांशु विश्वास : गरीबों के लिए समर्पित

पश्चिम बंगाल निवासी और 99 वर्षीय सुधांशु विश्वास को पद्मश्री मिला है. स्वतंत्रता सेनानी विश्वास ने सुंदरबन में एक आश्रम की स्थापना की. गरीबों की सेवा की, स्कूल और अनाथालय चलाये और गरीबों को मुफ्त शिक्षा देने के लिए स्कूल खोला. इस उम्र में भी वह सक्रिय हैं. िदगंबर हांसदा 16 अक्टूबर 1939 को जन्मे दिगंबर हांसदा ने भारतीय संविधान का संथाली में अनुवाद कर रहे हैं. दिगंबर हांसदा का जन्म पूर्वी िसंहभूम के डोभापानी में हुआ है. अभी वे करनडीह में रहते हैं. दिगंबर हांसदा एलबीएसएम कॉलेज के पूर्व प्राचार्य रहे हैं. वर्तमान में वे कोल्हान विवि के सिंडिकेट सदस्य भी है. उन्होंने सरना, गद्य पद्य संग्रह, गंगा माला आदि पुस्तकें लिखी है. मेरी बहू के मोबाइल पर बुधवार की शाम फोन आया था, बहू ने बात कर बताया कि मुझे पद्मश्री सम्मान के लिए चयनित किया गया है. पद्मश्री मिलने की खुशी तो है पर सम्मान मेरे लिए अब सामान्य बात है. कई बार तो कई पुरस्कार लेने मैं गया भी नहीं. - दिगंबर हांसदा, (सम्मान की घोषणा के बाद प्रतिक्रिया)

लोकगायिका शारदा सिन्हा को पद्मभूषण, वैज्ञानिक मानस बिहारी वर्मा व साहित्यकार कृष्ण बिहारी मिश्र को पद्मश्री सम्मान पद्म विभूषणनाम क्षेत्र राज्य इलैयाराजा कला-संगीत तमिलनाडु गुलाम मुस्तफा खान कला-संगीत महाराष्ट्र परमेश्वर साहित्य एवं शिक्षा केरल पद्मभूषण पंकज आडवाणी स्नूकर खिलाड़ी कर्नाटक फिलमपोस मार्क अध्यात्म केरल महेंद्र सिंह धौनी क्रिकेट झारखंड अलेक्जेंडर पब्लिक अफेयर रूस रामचंद्रन नागास्वामी भूगर्भवेत्ता तमिलनाडु वेद प्रकाश नंदा साहित्य एवं शिक्षा लक्ष्मण पई पेंटिंग गोवा अरविंद पारिख संगीत महाराष्ट्र शारदा सिन्हा संगीत बिहारपद्मश्री | अरविंद गुप्ता (महाराष्ट्र), भज्जू श्याम (मध्य प्रदेश), लक्ष्मी कुट्टी (केरल), एमआर राजगोपाल (केरल), सुलागति नरसिम्हा (केरल), मुरलीकांत पेटकर (ओलिंपियन),सुभाषिनी मिस्त्री (सामाजिक कार्यकर्ता),राजगोपालन वासुदेवन (प्लास्टिक रोड मेकर), येशी ढोडेन (मेडिसिन), िदंगबर हांसदा (साहित्य िशक्षा), कृष्ण बिहारी मिश्रा, (साहित्य िशक्षा), अभय बांग व रानी बांग, (दवा), सुधांशु िवश्वास, (समाज सेवा). धौनी को पद्मभूषण व दिगंबर हां