Yo Diary

झारखंड : लगातार बढ़ रहा है बजट का आकार, वित्त वर्ष 2017-18 की तुलना में 5.98 % की वृद्धि

पिछले 17 सालों में झारखंड के बजट की राशि में लगातार वृद्धि हुई है. सरकार ने वित्त वर्ष 2017-18 की तुलना में इस साल के बजट में 5.98 प्रतिशत की वृद्धि की है. शिक्षा के क्षेत्र में 3.29 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है. इसमें उच्च शिक्षा के लिए 1,219 करोड़ रुपये आवंटित किये गये हैं. तकनीकी शिक्षा व कौशल विकास में 704 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया. ग्रामीण क्षेत्र के बजट के लिए 13.18 प्रतिशत ज्यादा खर्च किया जायेगा.महिलाओं के जेन्डर बजट में भी 6.64 प्रतिशत की वृद्धि की गयी. खास बात यह कि अनुसूचित जनजाति व अनुसूचित जाति के प्रक्षेत्रों पर 52 प्रतिशत राशि खर्च की जायेगी.

गौरतलब है कि देश के 115 जिलों की अति पिछड़े जिले के रूप में पहचान की गयी है, जिनमें 16 पिछड़े जिले झारखंड में है. इन जिलों का योजनाबद्ध तरीके से समेकित विकास की घोषणा की गयी है. 6 अति पिछड़ों जिलों के योजनाबद्ध विकास के लिए प्रति जिला 50 करोड़ रुपये खर्च किया गया है. अनुसूचित जनजाति / जाति के डॉक्टर अगर जनजातीय क्षेत्र में अस्पताल अस्पताल का निर्माण करते हैं तो उन्हें 50 लाख रुपये तक एक बैंक से ऋण उपलब्ध कराये जाने की योजना है.