Yo Diary

मलेशिया में फंसे बोकारो के दो मजदूर वतन लौटे, 44 अब भी फंसे

जागरण संवाददाता, गिरिडीह।मलेशिया में फंसे पश्चिम बंगाल और झारखंड के मजदूरों की स्वदेश वापसी शुरू हो गई है। वहां 46 मजदूर फंसे थे, जिनमें रविवार रात दो मजदूरों की वतन वापसी हुई।

झारखंड के 11 मजदूर मलेशिया में फंसे थे, जिनमें बोकारो जिला के चतरो चट्टी थाना अंतर्गत चिलगो निवासी राजेंद्र महतो व जरकुंडा नावाटांड़ निवासी लोकनाथ रविदास की वापसी हुई है। मलेशिया में फंसे मजदूरों ने बताया कि 21 फरवरी को हाई कमिश्नर इंडिया ऑफिस में कंपनी के साथ बैठक की गई थी, जिसमें तय हुआ था कि टिकट का किराया मजदूरों के वेतन से काटा जाएगा और जो राशि बचेगी वह उन्हें वापस कर दी जाएगी, लेकिन कंपनी ने ऐसा नहीं किया। राजेंद्र व लोकनाथ के लिए सिर्फ टिकट की व्यवस्था कराई गई।

मलेशिया की दूसरी कंपनी में कार्यरत प्रवासी ग्रुप के सदस्य विकास महतो ने बताया कि कंपनी शेष राशि मजदूरों के बैंक खाते में ट्रांसफर कर देगी। इधर, राजेंद्र व लोकनाथ के पास कोलकाता एयरपोर्ट से घर आने के लिए पैसे भी नहीं थे। प्रवासी ग्रुप की ओर से दोनों मजदूरों को कोलकाता से उनके घर तक लाने की व्यवस्था की गई है। सामाजिक कार्यकर्ता सिकंदर अली ने बताया कि सभी मजदूरों की वापसी शीघ्र होगी।