Yo Diary

कुख्यात नक्सलियों की जब्त होगी संपत्ति, आकलन शुरू

उत्कर्ष पांडेय, लातेहार। राज्य भर में नक्सलग्रस्त इलाके के रूप में प्रसिद्ध कुख्यात लातेहार जिले को नक्सलियों से मुक्त कराने की दिशा में पुलिस अनोखी तरकीब अपना रही है। सरकार की सरेंडर पॉलिसी के तहत कई नक्सलियों ने आत्मसमर्पण कर सरकारी लाभ लिया है, लेकिन अब भी कई नक्सली सरेंडर नहीं करना चाह रहे। सरकारी पॉलिसी के तहत सरेंडर नहीं करने वाले नक्सलियों की संपत्ति कुर्क करने को लेकर पुलिस ने कदम बढ़ा दिया है।

नक्सलियों की संपत्ति का आकलन शुरू

लातेहार जिला के सात कुख्यात नक्सलियों की संपत्ति जब्त की जाएगी। पुलिस की विशेष टीम ने संबंधित संपत्ति का आकलन करना शुरू कर दिया है। आकलन पूर्ण होने के बाद इनामी नक्सली नवीन यादव, छोटू खरवार, श्रवण यादव, प्रेमजीत, शिवलाल यादव, रविंद्र गंझू और जेजेएमपी के पप्पू लोहरा की संपत्ति जब्त करने को लेकर प्रस्ताव राज्य मुख्यालय को भेजा जाएगा।

यूएपी एक्ट के तहत जब्त होगी संपत्ति डीआइजी विपुल शुक्ला ने बताया कि इन सभी नक्सलियों ने जंगल में रहकर लेवी के पैसों से कई जिलों में घर, गाड़ियां और अपने सगे संबंधियों के अकाउंट में पैसे जमा किए हैं। पुलिस अब जल्द ही इनकी संपत्ति जब्त करेगी। डीआइजी ने कहा कि नक्सली गतिविधियों के जरिए जिन नक्सलियों ने लेवी वसूली कर संपत्ति बनाई है, उन्हें हम पहले चिह्नित कर रहे हैं। ऐसे नक्सलियों को चिह्नित करने के बाद उनकी संपत्ति यूएपी एक्ट के तहत जब्त करेंगे।