Yo Diary

झारखंड : पुलिस मुठभेड़ में दो टॉप माओवादी कमांडर समेत चार नक्सली ढेर,

पलामू/रांची :झारखंड के पलामू जिला में पुलिस और सुरक्षा बलों ने मध्य क्षेत्र के नक्सलियों की कमर तोड़ दी है. सोमवार की सुबह मुठभेड़ में सुरक्षा बलों ने नक्सलियों के 2 टॉप कमांडर को उनकी दो महिला साथियों के साथ मार गिराया. इनकी पहचान सब जोनल कमांडर राकेश भुइयांं, लल्लू यादव, रुबी कुमारी एवं रिंकी कुमारी के रूप में हुई है. राकेश भुइयां पर 10 लाख रुपये का इनाम घोषित था. लल्लू यादव उर्फ विमल यादव उर्फ गणेश यादव 5 लाख रुपये का इनामी नक्सली था. विमल बिहार के औरंगाबाद जिला के मदनपुर थाना क्षेत्र के जमुनिया का रहने वाला था.

सीआरपीएफ के झारखंड सेक्टर के जन संपर्क अधिकारी ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया कि 26 फरवरी, 2018 की सुबह करीब 08:50 बजे पलामू जिला के छतरपुर थाना के तारुदाग गांव में मलंगा पहाड़ के पास सीआरपीएफ के 134वीं बटालियन की टीम का माओवादी राकेश भुइयां के दस्ता से सामना हुआ. सुरक्षा बलों और नक्सलियों के बीच भीषण मुठभेड़ हुई. इसमें सुरक्षा बलों ने 4 नक्सलियों को मार गिराया. सुरक्षा बलों को भारी पड़ता देख बाकी नक्सली भाग खड़े हुए.

विज्ञप्ति के मुताबिक, माओवादी राकेश भुइयां के 20 लोगों के साथ तारुदाग गांव के मलंगा पहाड़ के आसपास के इलाके में होने की गुप्त सूचना मिली थी. सूचना के आधार पर सीआरपीएफ की 134वीं बटालियन ने राज्य पुलिस की एक टीम के साथ पूरे इलाके की घेराबंदी कर दी. सुबह जब सर्च अभियान चला रहे थे, तभी माओवादियों के दस्ते ने सीआरपीएफ टीम पर हमला कर दिया.

सीआरपीएफ की टीम ने जवाबी कार्रवाई की. 20 मिनट तक हुई भीषण मुठभेड़ के बाद नक्सलियों ने भांप लिया कि वे सुरक्षा बलों का सामना नहीं कर पायेंगे और वहां से भाग खड़े हुए. मुठभेड़ के बाद सर्च ऑपरेशन के दौरान 02 पुरुष माओवादी एवं 02 महिला माओवादी के शव बरामद हुए. इनकी पहचान सब जोनल कमांडर राकेश भुइयांं, लल्लू यादव, रुबी कुमारी एवं रिंकी कुमारी के रूप में हुई है. सर्च के दौरान 2 एसएलआर राइफल, 05 मैगजीन, 219 राउंड कारतूस, 08 मोबाइल फोन, बड़ी मात्रा में पिट्ठू, वर्दी, नक्सल साहित्य एवं खाने-पीने के सामान भी मिले.

उल्लेखनीय है कि 8 फरवरी, 2018 को पलामू जिला के झुंझु गांव के पास 134 बटालियन सीआरपीएफ की टीम की राकेश भुइयां दस्ता से मुठभेड़ हो गयी थी. उस दिन दो माओवादी मारे गये थे और एक महिला माओवादी को सुरक्षा बलों ने घायल अवस्था में गिरफ्तार कर लिया था. तब 8 हथियार भी बरामद हुए थे.

सीआरपीएफ के पुलिस महानिरीक्षक संजय आनंद लाठकर ने घटनास्थल का दौरा किया और वहां मौजूद जवानों को अभिप्रेरित किया. उन्हें जवानों से कहा कि यह सही वक्त है, जब मध्य जोन को पूरी तरह से नक्सलवाद से मुक्त किया जा सकता है. उन्होंने कहा कि सुरक्षा बलों ने मध्य जोन में माओवादियों की कमर तोड़ दी हैयहां बताना प्रासंगिक होगा झारखंड सरकार ने वर्ष 2017 में नक्सलियों के खात्मे का लक्ष्य तय किया था, लेकिन बाद में इसकी डेडलाइन वर्ष 2018 कर दी गयी. झारखंड के पुलिस महानिदेशक डीके पांडेय बार-बार कहते हैं कि नक्सिलयों का प्रभाव अब सीमित क्षेत्र में रह गया है. वहां से भी उन्हें जल्द ही खदेड़ दिया जायेगा. इसलिए नक्सल प्रभावित जिलों में भारी संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात कर दिया गया है और नक्सलियों के सफाये के लिए सघन अभियान चलाया जा रहा है..