Yo Diary

रांची : मंदिर में हुई थी पहली मुलाकात, किया यौन शोषण, फिर कहा, 10 लाख दो तो शादी होगी

रांची :बूटी बस्ती, डुमरदगा के बसंत बिहार निवासी एक युवती को प्रेम जाल में फंसा कर उसी मोहल्ले के जयशंकर तिवारी ने यौन शोषण किया़ जब दबाव बनाया गया, तो शादी की तारीख भी तय कर दी. बाद में दहेज में 10 लाख रुपये और कार की मांग की़ जब लड़की के घरवालों ने दहेज देने से मना कर दिया तो युवक ने शादी से इनकार कर दिया़ इस संबंध में युवती ने एसएसपी को आवेदन देकर प्राथमिकी दर्ज करने की गुहार लगायी है़ युवती का आरोप है कि एक ओर जहां सदर थाना में प्राथमिकी दर्ज नहीं की जा रही है, वहीं दूसरी तरफ जयशंकर के घरवाले मेरे घरवालों को जान मारने की धमकी दे रहे है़ं

आवेदन दिया गया है़, लेकिन युवती के माता-पिता केस नहीं कर सामाजिक स्तर पर निदान कर शादी कराना चाहते है़ं एसएसपी के पास केवल दबाव बनाने के लिए गये है़ं प्राथमिकी दर्ज होने के बाद युवक जेल चला जायेगा़ युवती के घरवाले शादी करना चाहते हैं, लेकिन केस नहीं करना चाहते है़ं मीडिया के पास भी उसी कारण गये हैं कि युवक पर दबाव बने़ थाना में जब भी अायेंगे हमलोग केस करने काे तैयार है़ं दयानंद कुमार, इंस्पेक्टर सह सदर थाना प्रभारी

युवती ने कहा, मंदिर में आरोपी से पहली बार हुई थी मुलाकात

युवती ने आवेदन में लिखा है कि उसके पिता एक मंदिर के पुजारी है़ं 2015 से जयशंकर तिवारी मंदिर में आता था. उसी दौरान उससे मुलाकात हुई. कुछ दिनों बाद उसने कहा कि वह शादी करना चाहता है. मैं उसे हमेशा माता-पिता से बात करने के लिए कहती थी़ वर्ष 2017 में मेरे माता-पिता छठ पूजा में गांव गये हुए थे़ उसी दौरान जयशंकर मेरे घर आया़ जब उसे बैठने के लिए कहा, तो उसने शादी के नाम पर शारीरिक संबंध बनाया़ जब मैं रोने लगी, तो उसने कहा कि डरो मत अगले साल शादी कर लेंगे़ इसके बाद 14 जनवरी 2018 को जयशंकर, अपने पिता गौरीशंकर तिवारी, भाई सुखदेव तिवारी,मां, बहन एवं बहनोई के साथ मेरे घर आया और शादी की बात की़ 13 फरवरी 2018 को रिंग सेरेमनी व 22 जुलाई 2018 को शादी की तारीख तय कर दी गयी़ मेरे घरवाले रिंग सेरेमनी की तैयारी में जुटे हुए थे़

. इसी बीच 11 फरवरी को जयशंकर का भाई सुखदेव आया और मेरे घरवालों से कहा कि शादी नहीं हो सकती़ शादी करनी है तो 10 लाख रुपये और एक कार देना होगा़ उसने कहा कि जयशंकर की शादी ऊंचे खानदान में तय हुई है़ वहां 20 लाख रुपये और एक चार पहिया वाहन मिल रहा है़ उसके बाद मेरे घरवालों ने जयशंकर के माता-पिता से बात की तो दहेज की मांग हुई.