Yo Diary

झारखंड IT कॉन्क्लेव में बोले CM रघुवर, देश में भविष्य का आईटी हब झारखंड होगा

रांची :मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने कहा कि गुड गवर्नेंस के लिए आईटी का अधिकतम उपयोग जरूरी है. राज्य सरकार झारखंड में डिजिटल क्रांति की दिशा में अग्रसर है. आईटी के माध्यम से न केवल काम में तेजी आयेगी, बल्कि भ्रष्टाचार और बिचौलियों पर भी लगाम लगेगा. पिछले तीन साल में झारखंड में आईटी के क्षेत्र में काफी काम हुआ है. इसी का नतीजा है कि आज हमने देश में सबसे पहला बार ग्रामीण बीपीओ शुरू किया. इससे ग्रामीण क्षेत्रों में आधुनिकता को उपयोगी बनाया जा सकेगा.

मुख्यमंत्री रविवार को रांची के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में आयोजित झारखंड आईटी कॉन्क्लेव - 2018 को संबोधित कर रहे थे. मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रज्ञा केंद्रों के माध्यम से टेली हेल्थ का कार्यक्रम शुरू किया गया है. इसमें एक परिवार को डॉक्टर से एक साल में आठ बार बात करने का मौका मिलता है और दवाएं भी मुफ्त दी जाती हैं.

उन्होंने कहा कि राज्य में बीपीएल परिवारों को ये सुविधा प्रदान करने के लिए सरकार प्रज्ञा केंद्रों को सहायता देगी. इसके साथ ही हर प्रखंड में प्रज्ञा केंद्र के माध्यम से महिलाओं को दस सीटों वाले बीपीओ के लिए काम उपलब्ध कराने में सरकार मदद करेगी. मुख्यमंत्री ने कहा कि पीएमजी दिशा कार्यक्रम में झारखंड देश में दूसरे स्थान पर है.

राज्य में 9.50 लाख लोगों को बनाया गया डिजिटल साक्षर

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में 9.50 लाख लोगों को डिजिटल शिक्षा दी गयी है. इसमें 4.50 लाख ऑनलाइन परीक्षा में पास कर चुके हैं. इंफोर्मेशन टेक्नोलॉजी (आईटी) और इंडिया टैलेंट (आईटी) मिलकर इंडिया टुमोरो (आईटी) बनते हैं. विकास और रोजगार में तालमेल जरूरी है. जब एक ओर विकसित देशों में वृद्धि की जनसंख्या ज्यादा होती जा रही है, भारत की 65 प्रतिशत आबादी नौजवानों की है. ऐसे में सर्विस सेक्टर की भूमिका अहम होगी.उन्होंने कहा कि नयी तकनीक को यदि हम बदलते समय के साथ नहीं अपनायेंगे, तो हम पिछड़ जायेंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के न्यू इंडिया के सपनों को साकार करने के लिए गांव, गरीब, किसान को डिजिटल साक्षर करना जरूरी है. न्यू इंडिया और न्यू झारखंड के निर्माण में सभी को अपनी भूमिका निभानी होगी.

राज्य में 9.50 लाख लोगों को बनाया गया डिजिटल साक्षर

कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने नक्सल प्रभावित प्रखंडों में 30 ग्रामीण बीपीओ का उद्घाटन किया. जिससे 5000 लोग रोजगार से जुड़ गये. सांकेतिक रूप से कुछ लोगों को नियुक्ति पत्र सौंपे गये. झारखंड के बीपीओ शुरू करनेवाली कंपनियों को प्रशस्ति पत्र दिये गये. झारखंड में सफलतम स्टार्ट अप चलाने वाले 11 स्टार्ट अप कंपनियों को भी प्रशंसा पत्र सौंपा गया.

विकास के लिए बदलाव महत्वपूर्ण : मुख्य सचिव:-विकास के लिए बदलाव महत्वपूर्ण है. हम बदलाव के साथ डिजिटल झारखंड के सपने को साकार कर रहे हैं. डिजिटल झारखंड की परिकल्पना उसी राह पर बड़ा आगाज है. झारखंड की मुख्य सचिव राजबाला वर्मा ने सम्मेलन में यह बात कही. उन्होंने कहा कि डिजिटलाइजेशन के माध्यम से राज्य विकास की नयी ऊंचाइयों को छू सकते हैं. इसे लेकर राज्य के हरेक नागरिक को डिजिटली मजबूत करना है. उन्होंने कहा कि डिजिटल झारखंड एक लहर, क्रांति, जन आंदोलन का रूप लेगा, तभी सार्थक होगा. झारखंड के युवाओं ने यह सािबत कर दिया है कि वे डिजिटल झारखंड को जन आंदोलन बनायेंगे. राज्य के युवाओं के माध्यम से घर-घर में इस जन आंदोलन को पहुंचाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि युवा हमारा भविष्य हैं, उन्हें विकास में भागीदार बनाने के लिए उन्हें तकनीकी तौर पर मजबूत बनाया जा रहा है.