Yo Diary

झारखंड : पत्थलगड़ी के लिए लोगों को उकसाने पर गांव की घेराबंदी की, फिर किया गिरफ्तार...जानें मामला

खूंटी :जिले में विकास कार्यों में बाधा डालने, संविधान की गलत व्याख्या करने, पुलिस के खिलाफ लोगों को भड़काने व पत्थलगड़ी करने के आरोप में पुलिस ने खूंटी के चामड़ी गांव के ग्राम प्रधान मंगल मुंडा एवं मुरहू के कोनवा गांव के ग्राम प्रधान विंसेंट सोय को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. घटना के बाबत मंगल मुंडा के खिलाफ खूंटी थाना मेें पांच फरवरी को जबकि विंसेट सोय के खिलाफ मुरहू थाना में नौ फरवरी को मामला दर्ज किया गया था. दोनों संबंधित कांडों के नामजद अभियुक्त हैं. मामला दर्ज होने के बाद से ये फरार थे.

दोनों के घर में हाेने की मिली थी जानकारी

एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा को 19 फरवरी की रात सूचना मिली कि उक्त कांड के दोनों फरार ग्राम प्रधान अपने-अपने घर में हैं. एसपी ने गिरफ्तारी के बाबत एक टीम गठित की. इसमें ऑपरेशन एएसपी अनुराग राज, प्राेबेशनर डीएसपी आशुतोष कुमार सत्यम एवं वरुण रजक, पुलिस निरीक्षक अमिताभ राय एवं सरोज सिंह, मुरहू थानेदार अरुण कुमार दुबे, अवर निरीक्षक भगवान प्रसाद झा सहित दर्जनों अधिकारियों एवं पुलिस बल को शामिल किया गया. दल ने मध्यरात्रि मुरहू के कोनवा गांव की घेराबंदी कर विंसेंट सोय को उसके घर से गिरफ्तार किया. फिर खूंटी के चामड़ी गांव की घेराबंदी कर मंगल मुंडा को गिरफ्तार कर लिया. एसडीपीओ रणवीर सिंह के मुताबिक पुलिस दोनों के बयान पर अन्य फरार आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए संभावित ठिकानों पर छापेमारी कर रही है. फरार आरोपियों के खिलाफ कुर्की जब्ती की कार्रवाई भी जारी है.

ग्राम प्रधानों की गिरफ्तारी के बाद पुलिस थी अलर्ट

दोनों ग्राम प्रधानों की गिरफ्तारी के बाबत पुलिस पूरे दिन विधि-व्यवस्था को लेकर अलर्ट रही. खूंटी शहर सहित भंडरा मोड़ एवं मुरहू में चप्पे-चप्पे पर रैफ, सैफ, जिला पुलिस बल, सहायक पुलिस जवानों की तैनाती की गयी थी. विधि-व्यवस्था को लेेकर एसपी, प्रभारी एसडीओ रवींद्र गागराई, ऑपरेशन एएसपी अनुराग राज, एसडीपीओ रणवीर सिंह खुद पूरे दिन खूंटी थाना में कैंप किये रहे. खूंटी थाना में बतौर दंडाधिकारी प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी कर्ण प्रसाद तैनात थे. पुलिस को आशंका थी कि गिरफ्तारी के विरोध में ग्रामीण थाना आ सकते हैं, हालांकि ऐसा नहीं हुआ.