Yo Diary

झारखंड : यूथ फेस्‍ट में CM रघुवर ने कहा, विविधता में एकता हमारी संस्कृति की पहचान

रांची : मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि हमारा देश दुनिया का सबसे युवा देश है. हमारे देश की आबादी की 65 प्रतिशत आबादी 35 वर्ष से कम उम्र के युवाओं की है. युवा हमारे लिए धन है. युवा शक्ति का इस्तेमाल कर भारत का फिर से विश्व गुरु बनाया जा सकता है. राजधानी में आयोजित 33वें नेशनल यूथ फेस्टिवल के समापन समारोह में रघुवर ने कहा कि हमारा देश विशाल है, विविधताओं से भरा हुआ है. खानपान, वेशभूषा, रीति-रिवाज अलग-अलग होने के बावजूद भी हम एक हैं. विविधता में एकता ही हमारी संस्कृति की पहचान है.

उन्होंने कहा कि देश को बढ़ाने के लिए युवाओं से बड़ी पूंजी नहीं हो सकती है, जो आज हमारे पास है. देश के लोकप्रिय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने युवा की शक्ति को पहचाना और उन्हें डिग्री के साथ हुनर देने की पहल की. स्कील्ड लोगों की मांग आज पूरी दुनिया में है.

उन्‍होंने कहा कि युवा अगर हुनरमंद हो जाए, तो पूरी दुनिया में अपना परचम लहरा सकता है. मुख्यमंत्री ने कहा कि युवा सपने जरूर देखें. अपने सपने राष्ट्र को जोड़ते हुए देखें. मैंने भी राष्ट्र के निर्माण के लिए सपने देखे हैं. टाटा कंपनी में मजदूरी करते हुए मैंने पहले बाबू बनने का सपना देखा था. मैंने फिर अपने सपने को राष्ट्र निर्माण से जोड़ा. ईश्वर की कृपा से मुझे राज्य का मुख्य सेवक बनाने का दायित्व मिल गया.

रघुवर दास ने कहा कि हमें भारत को फिर से विश्वगुरु बनाना है. हमारी संस्कृति की जड़ें काफी मजबूत हैं. 600 वर्ष की गुलामी के बाद भी हमारी संस्कृति को कोई नहीं मिटा सका. इसी संस्कृति के माध्यम से हम दुनिया के पथ प्रदर्शक बन सकते हैं. हमारे देश के कण-कण में कला है. यह व्यक्तित्व निर्माण में काफी अहम योगदान देती है. ऐसे आयोजनों से युवा अपनी प्रतिभा निखार पाते हैं. उन्‍होंने कहा कि झारखंड आकर देश भर के विश्वविद्यालय के युवा यहां से कुछ सीख कर जायेंगे. इसी प्रकार इनसे हमारे राज्य के युवाओं ने भी काफी कुछ सीखा होगा. संस्कृतियों के आदान प्रदान से 'एक भारत श्रेष्ठ भारत' के निर्माण का रास्ता आसान हो जायेगा. झारखंड भी नृत्य-संगीत और गीत से पहचाना जाता है. हमारे यहां काफी प्रतिभा है. ऐसे आयोजनों से इन प्रतिभाओं को भी अपना हुनर दिखाने का मौका मिलता है.

कार्यक्रम में खेल मंत्री अमर कुमार बाउरी, विधायक डा. जीतू चरण राम, रांची विश्वविद्यालय के कुलपति आर के पांडेय, उच्च शिक्षा निदेशक अबु इमरान समेत बड़ी संख्या में गणमान्य अतिथि उपस्थित थे.