Yo Diary

10 वर्षों से फर्जी दस्तावेज पर नौकरी रही थीं दो शिक्षिकाएं

फर्जी प्रमाण पत्रों के आधार टिनप्लेट आंध्र मध्य विद्यालय में दस वर्षों से नौकरी करने का आरोप दो शिक्षिकाओं पर लगा है। इन दोनों शिक्षिकाओं की नियुक्ति वर्ष 2006 में हुई थी। मुख्यमंत्री जन संवाद में हुई शिकायत के बाद मामला प्रकाश में आया है। जनसंवाद में की गई शिकायत के आधार पर शिक्षा विभाग ने जांच शुरू कर दी है। जांच में शिक्षा विभाग ने पाया कि इसमें एक शिक्षिका तनुजा साव ने छह महीने पहले ही इस्तीफा दे दिया है। दूसरी शशिकला काम तो कर रही हैं, पर वह भी छुट्टी पर हैं।

पैन नंबर से पकड़ में आई थीं तनुजा :

शिक्षा विभाग के सूत्रों के मुताबिक टिनप्लेट आंध्र मध्य विद्यालय की शिक्षिका तनुजा साव द्वारा दिए गए पैन नंबर किसी और सरकारी कर्मचारी के पैन नंबर से मिल रहे थे। इनकम टैक्स विभाग ने इस गलती को पकड़ा और शिक्षा विभाग को कार्रवाई के लिए पत्राचार किया। इसी दौरान मुख्यमंत्री जन शिकायत में भी दोनों शिक्षिकाओं की शिकायत की गई। इस दौरान मामला उजागर होते ही तनुजा साव ने इस्तीफा दे दिया था।

शिक्षा विभाग में हुई जांच :

दूसरी शिक्षिका शशिबाला को गुरुवार को जिला शिक्षा अधीक्षक बांके बिहारी सिंह ने पूछताछ के लिए बुलाया था, पर शिक्षिका छुट्टी पर हैं। ऐसे में टिनप्लेट आंध्र मध्य विद्यालय प्रबंधन समिति के प्रिंसिपल बीके मिश्रा और स्कूल प्रबंधन समिति के सचिव शिक्षा विभाग में पहुंचे। प्रबंधन समिति के पदाधिकारियों ने सभी दस्तावेज शिक्षा अधीक्षक को दिखाए। जांच अभी जारी रहेगी।