Yo Diary

नये भारत के बजट में झारखंड को मिली कई रेल परियोजनाओं की सौगात, 13 फेरे लगायेगी रक्सौल-हैदराबाद स्पेश

रांची : केंद्र सरकार ने आम बजट में झारखंड की कई अन्य रेल परियोजनाओं को भी हरी झंडी दी है. ये परियोजनाएं पूर्व-मध्य रेलवे के अंतर्गत आती हैं. यह जानकारी उक्त जोन के अपर महाप्रबंधक अनूप कुमार ने दी है. उन्होंने कहा कि यह बजट रेलवे को आधुनिक, सुरक्षित, पर्यावरण अनुकूल, सस्ती और आरामदायक परिवहन के रूप में बदलने के लिए नये भारत का बजट है. इसके तहत रेल में संरक्षा पर जोर देते हुए राष्ट्रीय रेल संरक्षा कोष बनाया गया है, जिसके लिए पर्याप्त धनराशि की व्यवस्था की गयी है.

श्री कुमार ने बताया कि संरक्षा को बढ़ावा देने के लिए ‘फॉग सेफ व ट्रेन प्रोटेक्शन एंड वार्निंग सिस्टम’ जैसी नवीनतम तकनीकों को भारतीय रेल द्वारा प्रयोग में लाया जा रहा है. इसके अलावा बड़ी लाइन पर सभी मानव रहित समपार फाटकों को समाप्त कर दिया जायेगा. संरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए भारतीय रेल द्वारा संरक्षा गतिविधियों पर 73,065 करोड़ रुपये के व्यय की योजना है. इसके तहत परंपरागत कोचों के स्थान पर एलएचबी कोच लगाने व ट्रैक के नवीकरण पर सर्वाधिक बल दिया गया है.

निर्माणाधीन परियोजना (करोड़ में)

गढ़वा रोड में बाइपास का निर्माण किये जाने की योजना है पारसनाथ-मधुबन गिरिडीह (35 किमी) नयी लाइन के लिए 364.5 कोडरमा-रांची रेल लाइन के लिए 150 कोडरमा-तिलैया रेल लाइन के लिए 75 गिरिडीह-कोडरमा रेल लाइन के लिए 40 राजगीर-तिलैया रेल लाइन के लिए 10 दोहरीकरण परियोजनाएं (करोड़ में) धनबाद-सोननगर रेल लाइन के लिए 250 रांची रोड-पतरातू रेल लाइन के लिए 100 रमना-सिंगरौली रेल लाइन के लिए 150 दानियां-रांची रोड रेल लाइन के लिए 50 गढ़वा रोड-रमना रोड रेल लाइन के लिए 30

शीघ्र परिचालन शुरू होगा

बरकाकाना-सिधवर रेल लाइन (07 किमी) : परिचालन प्रारंभ टांटीसिलवे-सांकी रेल लाइन (31 किमी) : काम पूरा, परिचालन शीघ्र तिलैया-खिरौंद रेल लाइन (25 किमी) : काम पूरा, परिचालन शीघ्र

शीघ्र परिचालन शुरू होगा

तिलैया-मानपुर (171 किमी) कोडरमा-पिपराडीह (11.2 किमी) मेरलग्राम-रेणुकूट (81.3 किमी)