Yo Diary

झामुमो ने रघुवर सरकार पर साधा निशाना

जागरण संवाददाता, धनबाद। राज्य की स्थानीय नीति का जोरदार विरोध करते हुए विपक्ष के नेता पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि राज्य की भाजपा सरकार ऐसे ही काला कानून बनाती रही तो विधानसभा के शेष डेढ़ साल के कार्यकाल में भी सदन चलने नहीं देंगे। उन्होंने राज्य की नौकरियों में आदिवासी और मूलवासियों के लिए 75 प्रतिशत आरक्षण सुनिश्चित करने की मांग की। साथ ही, झारखंड से भाजपा को भगाने का आह्वान किया। वह रविवार को धनबाद में झामुमो के 46वें स्थापना दिवस समारोह में बोल रहे थे।

वहीं, झामुमो प्रमुख शिबू सोरेन ने कहा कि हम संगठन के नाम पर बेईमानी नहीं करते हैं। यही कारण है कि झारखंड में आदिवासी और मूलवासी संगठित हैं। उन्होंने बेटे-बेटियों को खूब पढ़ाने का आह्वान किया।

गोल्फ ग्राउंड में हेमंत ने भाजपा और मुख्यमंत्री रघुवर दास को निशाने पर लिया। कहा- 17 साल में झारखंड का क्या हाल हो गया है? गांव में बूढ़ा बाप अपने बेरोजगार बेटे को देखता है तो फूट फूटकर रोता है। उप्र, बिहार और छत्तीसगढ़ से आकर लोग नौकरी ले रहे हैं। 90 प्रतिशत बाहरी लोगों को नौकरी मिल रही है। विस में मैंने मुख्यमंत्री के मुंह पर सुबूत फेंका।

उन्होंने कहा कि हमलोग आंदोलन करते हैं तो पुलिस की लाठी-गोली खानी पड़ती है। स्थानीय नीति पर भाजपा के विधायक कहते हैं तो वे सच्चे और हम कहते हैं तो झूठे? रघुवर मूलवासी व आदिवासियों की जमीन छीनकर गुजरात के व्यवसायियों को देने का षड़यंत्र रच रहे हैं। सीएनटी-एसपीटी एक्ट और भूमि अधिग्रहण कानून में संशोधन का विधेयक विस में पारित होना सुबूत है। विरोध के कारण राज्यपाल ने उसे वापस कर दिया। कुरमी को आदिवासी बनाने की मांग को हेमंत ने भाजपा की साजिश करार दिया। उन्होंने कहा कि हम लोगों के बीच से ही भाजपा कुछ गलत लोगों को खड़ा कर दे रही है। ऐसे लोगों की पहचान कर भगाने की जरूरत है। वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, मुख्य सचिव राजबाला वर्मा और डीजीपी डीके पांडेय पर भी बरसे।

हम संगठने के नाम पर बेईमानी नहीं करते। आदिवासी और मूलवासी संगठित है। इसका उदाहरण है कि पार्टी स्थापना दिवस के लिए किसी को कार्ड भेजकर निमंत्रण देने की जरुरत नहीं होती। सभी लोग स्वत: चले आते हैं। यह बातें पूर्व मुख्यमंत्री और झारखंड मुक्ति मोर्चा सुप्रीमो दिशोम गुरू शिबू सोरेन ने रविवार को गोल्फ मैदान में आयोजित पार्टी के 46 वां स्थापना दिवस समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित करते हुए कही।

उन्होंने राजनीतिक चर्चा तो नहीं की, लेकिन आदिवासी समाज को आगे बढ़ने का मूलमंत्र जरुर बताया। शिबू सोरेन ने कहा कि आप अपने बेटे-बेटियों को खूब पढ़ाएं। स्कूल से लेकर कॉलेज तक कहीं भी कोई कमी नहीं है। आदिवासी समाज की एकजुटता ही उपकी ताकत है इसलिए सभी का संगठित होना जरुरी है। 1धनबाद में कहां-कहां है आग किसी को पता नहीं : पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने भाजपा सरकार पर झारखंडी संस्कृति और आदिवासियों को उजाड़ने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि न सिर्फ हमारी जमीन छीनी जा रही है बल्कि खतरे में भी छोड़ा जा रहा है। धनबाद में कहां-कहां आग लगी है किसी को पता नहीं है। कभी किसी स्थान से धुआं निकल जाता है तो कभी किसी स्थान से। पता नहीं गोल्फ ग्राउंड में हम भाषण दे रहे हैं इसके नीचे भी आग हो। झामुमो स्थापना दिवस में पहुंचे पार्टी के विधायक और पूर्व मंत्रियों ने अपने संबोधन में जमकर राज्य सरकार को कोसा। पूर्व मंत्री हाजी हुसैन ने कहा कि आजादी के पहले से संचालित मदरसों के शिक्षकों को पिछले एक साल से वेतन नहीं दिया गया है। केन्द्र सरकार के तीन तलाक पर रोक लगाए जाने संबंधी मामले पर भी हाजी ने कटाक्ष किया